30,654 IVF Pregnancies

Blogs

PCOS की जजतना जल्दी ऩहचान, उतनी होगी कभ तकरीप!

Treatment profile

श्रीजा, एक कॉरजे छात्रा, आमु 22 वषष, जफ उसको अननममभत भामसक शुरु हुए, उसका वजन धीये-धीये फढ़ना शुरु हो गमा औय उसके चेहये ऩय अधधक फार उगने रगे. मह एक वषष औय छह भाह से अधधक जायी यहा च ॉकक उसने सोचा कक इन दोनों रऺणों का आऩस भें कोई सम्फन्ध नहीॊ है औय न ही ककसी गबॊीय डिसऑियष से. उसे वषष भें केवर आठ भामसक चक्र होते थे औय उसने अननममभतता को नजयअदॊाज कय ददमा. श्रीजा, अफ 26 की हो चुकी है, उसकी शादी हो चुकी है औय उसे गबष धायण कयने भें सभस्मा आ यही थी. मह भहस स कयने ऩय कक उसने जजन रऺणों को नजयअदॊाज कय ददमा था हो सकता है उनभें कुछ सम्फन्ध हो सकता है, उसने पर्टीरीर्टी ऩयाभशदषाता से सम्ऩकष ककमा औय उसका ननदान ऩॉरीमसजस्र्टक ओवरयमन मसड्रॊोभ (PCOS) ककमा गमा.

ऩॉमरमसजस्र्टक ओवरयमन मसड्रॊोभ एक फडा डिसआियष होता है जजससे ओवीरेर्टयी िाइपक्शन उत्ऩन होता है, जजससे प्राकृनतक तयीके से गबष धायण भदहराओॊ के मरए भुजककर हो जाता है. इससे 10-15 प्रनतशत भदहराएॉ अऩने रयप्रोिजक्र्टव वषों भें प्रबाववत यहती हैं. मह फहुत साभान्म अथवा अधधक वजन वारी भदहराओॊ भें देखा गमा है. ‘ऩॉरीमसजस्र्टक‘ का तात्ऩमष मह नहीॊ है कक भल्र्टीऩर क्राइस्र्ट हैं, ऩयन्तु भल्र्टीऩर पोरीमसल्स होते हैं जो भाइन्म र्ट स्रक्चसष हैं जजनभें अिॊे होते हैं. उनभें साभान्म भदहराओॊ से अधधक अिॊे होते हैं. असाभान्म हाभोननमर एनवामयभेंर्ट के कायण व्मवधान उत्ऩन्न होते हैं जजसभें एक एकर अिॊा फढ़ता है तथा आगे जाकय ओवरर्टे अिॊोत्सगष भचैोय होता है. पोमसल्स फढ़ने औय फ्रुइि फनाते हैं ऩयन्तु ओवरेशन नहीॊ हो ऩाता है. कुछ भाभरों भें, कुछ पोमसल्स ओवयी भें मसस््स के रूऩ भें यहते हैं.

PCOS के रऺण

PCOS की घर्टनाएॊ मुवा भदहराओॊ भें फढ़ यही हैं औय इनपर्टीमरर्टी एवॊ सफपर्टीमरर्टी का सफसे फडा कायण फनता है. कयीफ 30% भदहरा इनपर्टीमरर्टी के भाभरे आज जो साभने आ यहे हैं उनका कायण ऩोरीसीजस्र्टक ओवयीज हैं. अधधकाशॊ भाभरे 20-30 वषष की आमु सभ ह भें आते हैं. अतएव, मह फहुत भहत्वऩ णष हो जाता है कक मुवा भदहराएॉ अऩने शयीय तथा ददखाई देनेवारे रऺणों के प्रनत जागरुक यहें.

अननममभत भामसक (28-30 ददन के चक्र ऩय नहीॊ होने अथवा 6 भहीने से अधधक देय होने ऩय), भामसक यक्त के अऩमाषप्त फ्रो होने, चेहये ऩय अत्मधधक फार उगने, वजन फढ़ने जो कक योज-भयाष के तयीके से ननमत्रॊत्रत नहीॊ ककमा जा सके, असाभान्म कीर व भुहासे, आदद PCOS के कुछ रऺण होते हैं. जफ कक सबी साभान्म भदहराओॊ भें एॊड्रोजन-र्टेस्र्टोस्रोन (ऩुरुष सक्ेस हाभोन) न्म नतभ स्तय ऩय उत्ऩन्न होते हैं, जजनभें ऩोरीमसजस्र्टक ओवयीज होती है उनभें असाभान्म भात्रा भें र्टेस्र्टोस्रोन उत्ऩन्न होने के रऺण होते हैं, जजसके कायण उक्त रऺण ददखाई देते हैं.

PCOS के कायण

जफ कक PCOS का वास्तववक कायण अऻात है, िॉक्र्टयों का ववकवास है कक हायभोननमर के असॊतुरन औय जेनेदर्टक्स इसभें ब मभका ननबाते हैं. भदहराओॊ भें PCOS ववकमसत होने की सबॊावना अधधक होती हैं मदद उनकी भाता मा फदहन भें मह दशा होती है. राईप स्र्टाइर रेंड्स जसैे देय तक काभ कयने के घर्टॊे, खयाफ खाने की आदतें, नीॊद औय व्मामाभ की कभी, आदद PCOS ददखाई देते हैं, ऩरयणाभस्वरूऩ ववमबन्न भडेिकर सभस्माएॊ उत्ऩन्न होती हैं, जैसे ओफेमसर्टी, जजसके कायण होयभोननमर असन्तुरन फनजाता है.

PCOS का उऩचाय

PCOS कोई फीभायी नहीॊ है ऩयन्तु इस असॊतुरन को उचाय के द्वाया ननमत्रॊत्रत ककमा जा सकता है. PCOS के रऺण ऻात होते ही जल्दी से इॊस रीन प्रनतयोध खुयाक औय व्मामाभ के द्वाया PCOS की जदर्टरताओॊ भें सहामता मभर सकती है जजसभें इनपर्टीमरर्टी औय गबाषधान की द सयी जदर्टरताएॊ सजम्भमरत हैं. PCOS से छुर्टकाये के मरए, सही सभमा ऩय सयर उऩचाय से इस दशा को ननमत्रॊत्रत कयने भें सहामक हो सकती है; तथावऩ उऩचाय नहीॊ मरमा जाता है तो गबॊीय स्वास््म सभस्माएॊ जैसे िाइत्रफर्टीज अथवा हार्टष प्रोब्रम्स हो सकती है.

जीवनचमाष फदरने, जैसे स्वस्थ बोजन आदतें साथ भें ऩमाप्षत व्मामाभ न केवर PCOSसे फचने भें सहामक हो सकता है, वयन् द सयी स्वास््म सभस्माओॊ से बी फचा सकती हैं. मुवा रडककमों को स्र्टाची बोजन, कम्ऩरेक्स काफोहाइड्रड्ेस तथा धचकनाई मुक्त बोजन से फचना चादहए. कभ से कभ 5% वेर्ट रोस, मदद स्वस्थप्रद बोजन की आदतों औय व्मामाभ से ककमा सके एनोन्म रेशन (नो ओव्म रेशन) सभस्मा को उरर्ट कय ननममभत सभम ऩय ओव्म रेशन की जस्थनत रा सकता है.

भेडिकर उऩचाय की दृजटर्ट से, PCOSउऩचाय भें हायभोनर असॊतुरन को ननमत्रॊत्रत कयना औय साभान्म भामसक की जस्थनत राना है. जफ पर्टीमरर्टी की इच्छा हो, जजन भदहराओॊ भें स्वाबाववक ओव्मुरेर्ट नहीॊ होता है, उसके मरए स्वाबाववक ओवरयमन की आवकमकता है. शयीय भें कपजजमोरोजजकर हायभोन्स उत्ऩन्न कयने के मरए, मह दवाओॊ से ठीक ककमा जा सकता है. मदद वे ओफेस हैं, तो उनके वजन को योज-भयाष की कपजजकर एक्सयसाइज से ननमत्रॊत्रत कयना फहुत भहत्वऩ णष है.

आॉकडों के दहसाफ से 20% भदहराएॊ, जजनकी ओवयीज ऩोरीमसजस्र्टक हैं, उन्हें ओव्म रेऩश अथवा गबाषधान की सभस्माएॊ नहीॊ होती हैं. दवाओॊ की सहामता से 60-70 प्रनतशत भदहराएॊ ओवीरेशन एधचव कय सकती हैं तथा इनभें से 40% प्रथभ 3 प्रमासों भें गबधषायण कय सकती है. मदद भुॉह से रेनेवारी दवाओॊ येसऩोंि नहीॊ होता है तो उन्हें गोन्िोरोऩीन स्र्टेम्मुरेशन के अगरे उऩचाय ववधध को रेना ऩडगेा. येजजस्र्टेंर्ट वारे ऩेयेन्र्टस के मरए ओव्म रेशन का एक ववकल्ऩ रो िोज हायभोनर रकेय पोरीसाइि ववकमसत कयने का है. मदद एक से अधधक पोमसर उत्ऩन्न हो जाती हैं तो भल्र्टीऩर गबष की सबॊावना यहती है औय उऩचाय इस उद्देकम से हो जजससे एक मा अधधक से अधधक दो पोमसल्स उत्ऩन्न हो सकें.

तथावऩ, हभेशा फचाव उऩचाय से अधधक अच्छा होता है. आज की दुननमा भें भदहराओॊ के मरए मह आवकमक है कक वे अऩनी खुयाक ऩय ननमत्रॊण यखें, ननममभत व्मामाभ ऩर्टैनष अऩनाएॊ, औय फहुत भहत्वऩ णष है कक अस्वस्थ रऺणों को नजयअदॊाज न कयें जो आगे जाकय सभस्माएॊ उत्ऩन्न कयते हैं.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *